Untitled

अन्दर मेरे इतना शोर हो गया कि बाहर से मैं खामोश हो गया